Hindi Poems for kids

Hindi Poems for kids

 Happy rain poems, mothers poem, rainy day poem, mother poem in Hindi, Kids Hindi poem, rainy poems, mother poem short, poems about life, grown-up, a poem about growing up.,mother poem from daughter

   बारिश आयी 

 पायल पहन के बारिश आयी।
छम छम करते दिल को भायी।
 साथ में अपने हवा को लाई।
सू  सू सूम सूम करते छाई।
बादल सारे हंसते आये।
 हंसते हंसते मोती बिखराये।
 देखने बारिश मुन्ना आया।
भीगने उसका दिल ललचाया।
फिर गरज गरज के बिजली आयी।
 कढ़ कढ कढ बड-बडाई।
 बिजली को देख मुन्ना डर गया।
 जा के माँ के पीछे छुप गया।
देख के मुन्ना को माँ मुस्कुरायी।
 डर मत मुन्ना बारिश आयी।
साथ में अपने खुशियां लाई।

मेरी माँ

मेरी माँ मुझे तेरी दुआ चाहिए।
 तेरे आंचल की ठंडी हवा चाहिए।
 तेरे ममता के साये में फुलू फलू।
 थाम कर तेरी ऊंगली मै यूँ ही चलती रहूं।
सहारा बस तेरे प्यार का चाहिए।
 मेरी माँ मुझे बस तेरी दुआ चाहिए।
लोरी गा गा कर मुझको सुलाती थी तू।
मुस्कुरा कर सवेरे जगाती थी तू ।
मुझ को इसके सिवा और क्या चाहिए।
मेरी माँ मुझे बस तेरी दुआ चाहिए।
तेरी दुआओ से रोशन है दुनिया मेरी।
 तेरे क़दमों तले है जन्नत मेरी।
उम्र भर सर पर साया तेरा चाहिए।
 मेरी माँ मुझे तेरी दुआ चाहिए।

बड़े हो गए हम

माँ की गोद में सोते थे।
पापा के कंधों पर घूमते थे।
 कमाने की फ़िक्र थी।
 ना जिंदगी के पंगे थे।
कल की फ़िक्र थी।
ना आने वाले कल के सपने।
लेकिन अब……..
कल की हैं फिक्र और अधूरे हैं सपने।
मूड कर देखो तो बहोत दूर हैं अपने।
मंजिलों को ढूंढते हुए कहा खो गए हम।
क्यों इतनी जल्दी बड़े हो गए हम।
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x